ताजा टेकन्यूज़साइंस

बजट 2020: 8000 करोड़ रुपये क्वांटम तकनीक, फोन निर्माण और आईटी फर्म पर केंद्रित होंगे

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार, 1 फरवरी को आम बजट पेश किया। इस बजट में 5G सेवाओं, कृत्रिम बुद्धिमत्ता, स्टार्टअप, डेटा सुरक्षा, क्वांटम कंप्यूटिंग और तकनीक से संबंधित क्षेत्रों पर बहुत जोर दिया गया था। इस बजट में शामिल तकनीक से जुड़ी सभी बड़ी बातें बता रहे हैं।

क्वांटम कम्प्यूटिंग: मोदी सरकार अगले 5 वर्षों में क्वांटम एप्लिकेशन पर 8 हजार करोड़ रुपये खर्च करेगी। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय ने क्वांटम कंप्यूटिंग सहित 27 संभावित क्षेत्रों में संयुक्त अनुसंधान के लिए इजरायल के साथ एक समझौता किया है। वित्त मंत्री ने कहा कि भारत ऐसा करने वाला तीसरा सबसे बड़ा और अग्रणी देश होगा जब उसने क्वांटम-संबंधित कंप्यूटिंग तकनीक का प्रबंधन किया। क्वांटम तकनीक कृत्रिम बुद्धिमत्ता से भी आगे है। कई विशेषज्ञों का मानना ​​है कि भौतिकी के क्वांटम सिद्धांत पर काम करने वाले इस कंप्यूटिंग में अपार संभावनाएं हैं।

पिछले साल, Google ने बताया था कि यह एक प्रायोगिक क्वांटम प्रोसेसर विकसित करने में सफल रहा है जिसमें क्वांटम कंप्यूटिंग अनुसंधान शामिल है। इस प्रोसेसर के साथ, ऐसी गणना कुछ ही मिनटों में हल हो जाती है, जिसे सुपर कंप्यूटर भी हजारों वर्षों में हल करने में सक्षम होगा। Google का यह शोध वैज्ञानिक पत्रिका नेचर में प्रकाशित हुआ है। जिसमें शोधकर्ताओं ने लिखा है कि क्वांटम स्पीडअप को वास्तविक दुनिया में हासिल किया जा सकता है और इसके लिए कोई छिपा हुआ भौतिकी सिद्धांत लागू नहीं है।

इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण: सरकार ने इस बजट में यह स्पष्ट किया है कि देश में मोबाइल फोन, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और अर्धचालक का विनिर्माण बड़े पैमाने पर जारी रहेगा। मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत, वित्त वर्ष 2019-20 में वित्तीय वर्ष 2016-17 में फोन विनिर्माण उद्योग बढ़कर 1,35,000 करोड़ रुपये का हो जाएगा। इसके साथ ही, डिक्सन टेक्नोलॉजीज, एम्बर एंटरप्राइजेज, सुब्रोस जैसी कंपनियां जो चिकित्सा उपकरणों का निर्माण करती हैं, उन्हें लाभ होगा। इसके लिए सरकार ने राष्ट्रीय तकनीकी वस्त्र मिशन के लिए 2020-21 के लिए 1480 करोड़ रुपये दिए हैं।

दूरसंचार क्षेत्र: सरकार अगले वित्त वर्ष में भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड पर 60 अरब रुपये (लगभग 6000 करोड़ रुपये) खर्च करेगी। भारत नेट एक ब्रॉडबैंड प्रोग्राम है जो देश के हर गाँव तक पहुँचता है। माना जा रहा है कि इससे रिलायंस इंडस्ट्रीज और एचएफसीएल लिमिटेड को फायदा हो सकता है।

आईटी फर्म: निजी क्षेत्र को डेटा सेंटर बनाने की अनुमति देने की घोषणा के बाद, सभी आईटी फर्म इससे लाभान्वित हो सकती हैं। इसका मतलब है कि TCS, Infosys, Wipro, HCL Technologies, Tech Mahindra के साथ-साथ LTI, Mindtree, Persistent और Hexaware जैसी मिड-साइज़ फर्म भी हैं। दूसरी ओर, अडानी एंटरप्राइजेज को भी इससे फायदा हो सकता है।

Buy Smartphones:

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please unblock the Adblock Detected