आज रात चाँद पर भारत, ISRO ने कहा- यह एक ऐसा मिशन है, जैसे एक बच्चे को पालना में रखना

चंद्रयान -2 लैंडर विक्रम शुक्रवार-शनिवार दोपहर 1.30 से 2.30 बजे के बीच चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा। विक्रम से रोवर प्रज्ञानन सुबह 5.30 से 6.30 के बीच निकलेगा। मिशन के अंतिम घंटों में, इसरो प्रमुख के के सिवन ने कहा कि अभी तक सब कुछ योजना के अनुसार हो रहा है। इसरो के वैज्ञानिकों ने कहा कि यह एक ऐसा मिशन है, जिसमें एक बच्चे को पालना है।

इस ऐतिहासिक क्षण का गवाह बनने के लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसरो मुख्यालय में मौजूद रहेंगे। उनके साथ 60 बच्चे भी होंगे जिन्होंने पिछले महीने विज्ञान प्रश्नोत्तरी जीती थी। प्रधानमंत्री ने लोगों से इस पल की तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा करने की अपील की है। यह मिशन दोपहर 1.10 बजे इसरो की वेबसाइट पर वेबकास्ट होगा। इसके अलावा यह फेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर लाइव स्ट्रीमिंग होगी।

प्रज्ञान एक चंद्र दिन पर कई प्रयोग करेगा
प्रज्ञान एक चंद्र दिन (चंद्रमा का एक दिन) में चंद्र सतह पर कई प्रयोग करेगा। चंद्रमा का एक दिन पृथ्वी पर 14 दिनों के बराबर होता है। चंद्रमा की परिक्रमा करने वाला एक वर्ष तक मिशन पर काम करता रहेगा। यदि लैंडर विक्रम चंद्रमा की ऐसी सतह पर उतरता है, जहां 12 डिग्री से अधिक ढलान है, तो इसके उलट होने का खतरा होगा।

Right लैंडर की गति कम होगी और सही जगह पर पहुंचकर नरम लैंडिंग करेगी ’
पूर्व ISRO प्रमुख जी माधवन नायर के अनुसार – विक्रम ऑनबोर्ड कैमरे सटीक स्थान का निर्धारण करेंगे। जब जगह मेल खाती है, तो इसमें स्थापित 5 रॉकेट इंजन की गति 6 हजार किमी प्रति घंटे से कम हो जाएगी। लैंडर कुछ समय के लिए निर्धारित स्थान पर हवा में तैरने लगेगा और धीरे-धीरे उड़ान भरेगा। एल्टीट्यूड सेंसर लैंडर के उतरने में भी मदद करेंगे। नायर ने यह भी उल्लेख किया कि नरम लैंडिंग बनाने के लिए लेजर रेंजिंग सिस्टम, ऑनबोर्ड कंप्यूटर और कई सॉफ्टवेयर लैंडर में स्थापित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि यह बहुत जटिल ऑपरेशन है। मुझे नहीं लगता कि किसी भी देश ने वास्तविक समय की तस्वीरें लेकर जहाज पर कंप्यूटर के माध्यम से एक वाहन के चंद्रमा पर लैंडिंग की है।

रोवर को लैंडर से निकालने में कितना समय लगेगा?
रोवर (ज्ञान) लैंडर के अंदर रहेगा। यह 1 सेंटीमीटर / सेकंड की गति से लैंडर से बाहर निकल जाएगा। इसे छोड़ने में 4 घंटे का समय लगेगा। बाहर आने के बाद यह चंद्र सतह पर 500 मीटर चलेगा। यह 1 दिन (पृथ्वी के 14 दिन) चंद्रमा पर काम करेगा। इसके साथ 2 पेलोड जा रहे हैं। उनका उद्देश्य लैंडिंग स्थल के पास तत्वों की उपस्थिति और चंद्रमा की चट्टानों और मिट्टी की मूलभूत संरचना का पता लगाना होगा। रोवर इस डेटा को पेलोड के माध्यम से इकट्ठा करेगा और लैंडर को भेज देगा, जिसके बाद लैंडर इस डेटा को इसरो को पास कर देगा।

ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर क्या काम करेगा?
चंद्रमा की कक्षा में पहुंचने के बाद एक वर्ष तक ऑर्बिटर काम करेगा। इसका मुख्य उद्देश्य पृथ्वी और लैंडर के बीच संवाद करना है। इसके अलावा, ऑर्बिटर चंद्र सतह का एक नक्शा तैयार करेगा, ताकि चंद्रमा के अस्तित्व और विकास का पता लगाया जा सके। ऋणदाता यह जांच करेगा कि क्या चंद्रमा पर भूकंप आते हैं। जबकि, रोवर चंद्र सतह पर खनिज तत्वों की उपस्थिति का पता लगाएगा।

चंद्रमा की धूल से बचाव जरूरी है
वैज्ञानिकों के अनुसार – चंद्रमा धूल भी एक चिंता का विषय है, यह लैंडर को कवर कर सकता है और इसके कामकाज को बाधित कर सकता है। इसके लिए, चार लांचर लैंडिंग के दौरान स्वचालित रूप से बंद हो जाएंगे, केवल एक चालू रहेगा। इससे धूल उड़ने और इसके लैंडर को कवर करने का जोखिम कम हो जाएगा।

‘चाँद पर नरम लैंडिंग अब तक 38 प्रयास, 52% सफल’
चंद्रमा को छूने का पहला प्रयास 1958 में रूस और अमेरिका और सोवियत संघ द्वारा किया गया था। अगस्त और दिसंबर 1968 के बीच, दोनों देशों ने 4 पायनियर ऑर्बिटर्स (यूएस) और 3 लूना इम्पैक्ट (सोवियत संघ) भेजे, लेकिन सभी असफल रहे। अब तक, केवल 6 देशों या चंद्रमा पर एजेंसियों ने उपग्रह वाहन भेजे हैं। केवल 5 को सफलता मिली। अब तक 38 ऐसे प्रयास किए गए हैं, जिनमें से 52% सफल रहे। हालांकि, इसरो को चंद्रयान -2 की सफलता का भरोसा है। माधवन नायर यह भी कहते हैं कि हम ऐतिहासिक क्षण के गवाह बनने जा रहे हैं। 100% सफलता।

चंद्रयान -2 की सफलता कितनी बड़ी है?

अमेरिका, रूस और चीन के बाद, चंद्र सतह पर पहुंचने वाला भारत दुनिया का चौथा देश बन जाएगा। चंद्रयान -2 दुनिया का पहला ऐसा वाहन है, जो चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा। इससे पहले, चीन के चांग -4 वाहन ने दक्षिणी ध्रुव से कुछ दूरी पर लैंडिंग की थी। अब तक यह क्षेत्र वैज्ञानिकों के लिए अज्ञात है। चंद्रयान -2 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर मैग्नीशियम, कैल्शियम और लोहे जैसे खनिजों को खोजने का प्रयास करेगा। यह चंद्रमा के वातावरण और उसके इतिहास पर डेटा भी एकत्र करेगा।
चंद्रयान -2 का सबसे महत्वपूर्ण मिशन पानी या इसके संकेतों की खोज करना होगा। अगर चंद्रयान -2 यहां पानी के सबूत खोजने में सक्षम है, तो यह अंतरिक्ष विज्ञान के लिए एक बड़ा कदम होगा। यदि पानी और ऑक्सीजन प्रदान किया जाता है, तो चंद्रमा पर बेस कैंप बनाए जाएंगे, जहां चंद्रमा से संबंधित अनुसंधान के साथ-साथ अंतरिक्ष से संबंधित अन्य मिशन तैयार किए जा सकते हैं। अंतरिक्ष एजेंसियां ​​इसका इस्तेमाल कर सकेंगी

चंद्रयान -2 की सफलता कितनी बड़ी है?

अमेरिका, रूस और चीन के बाद, चंद्र सतह पर पहुंचने वाला भारत दुनिया का चौथा देश बन जाएगा। चंद्रयान -2 दुनिया का पहला ऐसा वाहन है, जो चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा। इससे पहले, चीन के चांग -4 वाहन ने दक्षिणी ध्रुव से कुछ दूरी पर लैंडिंग की थी। अब तक यह क्षेत्र वैज्ञानिकों के लिए अज्ञात है। चंद्रयान -2 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर मैग्नीशियम, कैल्शियम और लोहे जैसे खनिजों को खोजने का प्रयास करेगा। यह चंद्रमा के वातावरण और उसके इतिहास पर डेटा भी एकत्र करेगा।
चंद्रयान -2 का सबसे महत्वपूर्ण मिशन पानी या इसके संकेतों की खोज करना होगा। अगर चंद्रयान -2 यहां पानी के सबूत खोजने में सक्षम है, तो यह अंतरिक्ष विज्ञान के लिए एक बड़ा कदम होगा। यदि पानी और ऑक्सीजन प्रदान किया जाता है, तो चंद्रमा पर बेस कैंप बनाए जाएंगे, जहां चंद्रमा से संबंधित अनुसंधान के साथ-साथ अंतरिक्ष से संबंधित अन्य मिशन तैयार किए जा सकते हैं। अंतरिक्ष एजेंसियां ​​चांद का उपयोग मंगल तक पहुंचने के लिए लॉन्च पैड के रूप में कर सकेंगी। इसके अलावा, यहां के सभी खनिजों का उपयोग भविष्य के मिशनों में किया जाएगा।
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा भी दक्षिणी ध्रुव पर जाने की तैयारी कर रही है। 2024 में नासा चंद्रमा के इस हिस्से पर अंतरिक्ष यात्रियों को उतारेगा। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि नासा की योजना का एक बड़ा हिस्सा चंद्रयान -2 की सफलता पर टिका है।
दक्षिणी ध्रुव: एक जगह जहां बड़े क्रेटर होते हैं और सूर्य की किरणें नहीं पहुंचती हैं।
यदि कोई अंतरिक्ष यात्री चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर खड़ा होता है, तो वह सूर्य को क्षितिज रेखा पर देखेगा। वह चंद्रमा की सतह और चमकते हुए दिखाई देगा। दक्षिणी ध्रुव पर सूर्य की किरणें तिरछी होती हैं। इस कारण यहां का तापमान कम है। अंतरिक्ष भारत के प्रशिक्षण प्रभारी तरुण शर्मा का कहना है कि सूर्य के संपर्क में आने वाले चंद्रमा के हिस्से का तापमान 130 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुंच जाता है। इसी तरह, चंद्रमा के उस हिस्से पर तापमान जहां सूरज की रोशनी नहीं है, 130 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला जाता है। इसलिए, चंद्रमा पर हर दिन (पृथ्वी के 14 दिन) तापमान बढ़ता रहता है, लेकिन दक्षिणी ध्रुव पर तापमान बहुत अधिक नहीं बदलता है। यही कारण है कि वहां पानी मिलने की संभावना अधिक है।

चंद्रयान -2 कब लॉन्च किया गया था?
चंद्रयान -2 को भारत के सबसे शक्तिशाली GSLV मार्क- III रॉकेट के साथ लॉन्च किया गया था। रॉकेट में तीन-मॉड्यूल ऑर्बिटर्स, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) थे। चंद्रयान -2 का वजन 3,877 किलोग्राम था। यह चंद्रयान -1 मिशन (1380 किलोग्राम) से लगभग तीन गुना अधिक था। मिशन 22 जुलाई को एक बार तकनीकी गड़बड़ियों के साथ शुरू हुआ था। लॉन्चिंग समय चुनने के लिए एक लंबी गणना है। पृथ्वी और चंद्रमा की गति को ध्यान में रखा जाता है। चंद्रयान -2 के मामले में, पृथ्वी और चंद्रमा की परिक्रमा से लेकर लैंडिंग तक के समय की गणना की गई। पृथ्वी की परिक्रमा 23 दिनों तक चली। इसके बाद चंद्र की कक्षा में पहुंचने में 6 दिन लगे।

चंद्रयान -2 की सफलता कितनी बड़ी है?

अमेरिका, रूस और चीन के बाद, चंद्र सतह पर पहुंचने वाला भारत दुनिया का चौथा देश बन जाएगा। चंद्रयान -2 दुनिया का पहला ऐसा वाहन है, जो चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा। इससे पहले, चीन के चांग -4 वाहन ने दक्षिणी ध्रुव से कुछ दूरी पर लैंडिंग की थी। अब तक यह क्षेत्र वैज्ञानिकों के लिए अज्ञात है। चंद्रयान -2 चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर मैग्नीशियम, कैल्शियम और लोहे जैसे खनिजों को खोजने का प्रयास करेगा। यह चंद्रमा के वातावरण और उसके इतिहास पर डेटा भी एकत्र करेगा।
चंद्रयान -2 का सबसे महत्वपूर्ण मिशन पानी या इसके संकेतों की खोज करना होगा। अगर चंद्रयान -2 यहां पानी के सबूत खोजने में सक्षम है, तो यह अंतरिक्ष विज्ञान के लिए एक बड़ा कदम होगा। यदि पानी और ऑक्सीजन प्रदान किया जाता है, तो चंद्रमा पर बेस कैंप बनाए जाएंगे, जहां चंद्रमा से संबंधित अनुसंधान के साथ-साथ अंतरिक्ष से संबंधित अन्य मिशन तैयार किए जा सकते हैं। अंतरिक्ष एजेंसियां ​​चंद्रमा को मंगल तक पहुंचने के लिए लॉन्चपैड के रूप में उपयोग करने में सक्षम होंगी। इसके अलावा, यहां के सभी खनिजों का उपयोग भविष्य के मिशनों में किया जाएगा।

कई देशों के मुकाबले हमारा मिशन सस्ता

यानलागत
चंद्रयान-2978 करोड़ रुपए
बेरशीट (इजराइल)1400 करोड़ रुपए
चांग’ई-4 (चीन)1200 करोड़

Expert in Tech, Smartphone, Gadgets. It Works on the latest tech news in the world.

1 Comment

Leave a reply

Search | Compare | Best & Latest price of Smartphones, Gadgets & More  - Seven Sense Tech
Logo
Enable registration in settings - general
Compare items
  • Total (0)
Compare
0